शाहीन बाग प्रदर्शनकारियों से नहीं बनी बात वार्ताकार रामचंद्र बोले रास्ता अगर बंद रहा तो नहीं कर पाएंगे आपकी मदद - Nolshi News - Sabse Tez

Hot News

Saturday, 22 February 2020

शाहीन बाग प्रदर्शनकारियों से नहीं बनी बात वार्ताकार रामचंद्र बोले रास्ता अगर बंद रहा तो नहीं कर पाएंगे आपकी मदद

शाहीन बाग प्रदर्शनकारियों से नहीं बनी बात वार्ताकार रामचंद्र बोले रास्ता अगर बंद रहा तो नहीं कर पाएंगे आपकी मदद


महिला प्रदर्शनकारी ने कहा हमारे ऊपर जो गलत टिप्पणियां हो रही है उस पर रोक लगाई जाए और हम भी चाहते हैं कि 9 नवंबर को यह सड़क खुल जाए. नई दिल्ली के साइन बाग में लगातार 2 महीनों से चल रहा है नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में चल रहा है प्रदर्शन के कारण और वहां की सड़क और दुकान बंद है.


शाहीन बाग प्रदर्शनकारियों से नहीं बनी बात वार्ताकार रामचंद्र बोले रास्ता अगर बंद रहा तो नहीं कर पाएंगे आपकी मदद

खुलवाने के लिए सुप्रीम कोर्ट के वकील हेगडे और रामचंद्रन को सुप्रीम कोर्ट के द्वारा वार्ताकार नियुक्त किया गया था ताकि वह साइन बाग जाकर वहां से लोगों से मिलकर सड़क को खाली करवाने के लिए बात करें. लेकिन आज शनिवार के दिन हुई वार्ताकार के द्वारा बातचीत करने पर भी कोई हल निकलता नहीं दिखाई दिया.

साधना रामचंद्रन साइन बाग के प्रदर्शनकारियों से अकेले मिलने आई


आज साधना रामचंद्रन साइन बाग के प्रदर्शनकारियों से अकेले मिलने आई और बात की प्रदर्शनकारी अपनी मांगों पर अडे रहे और CAA जब तक वापस नहीं लिया जाता तब तक सड़क से नहीं हटने की बात कही. साधना रामचंद्र ने बोला अगर आप सड़क खाली नहीं करेंगे तब तक मैं आपकी मदद नहीं कर पाऊंगी.

साथ में उन्होंने यह भी बोला मैं मीडिया से बात नहीं करूंगी मैं केवल महिलाओं से बात करने आई हूं. साइन बाग के महिलाओं ने बोला उनके ऊपर जो गलत टिप्पणियां हो रही है उस पर अति शीघ्र रोक लगाई जाए.

हम भी चाहते हैं कि 9 नवंबर को सड़क खुल जाए, और उन्होंने आरोप लगाया कल जब यह सड़क खुली थी तब पुलिस ने इसे बंद क्यों करवा दिया. इस पर साधना रामचंद्र ने प्रदर्शनकारियों से बोला कि शुक्रवार को हमने सड़क खाली करने के बारे में बात की थी. 

कल हमने आधी सड़क खाली करने की बात की इस पर आपने अपनी सुरक्षा की बात की मैंने यह नहीं कहा कि आप साइन बाग से चले जाएं. इस पर साइन बाग की महिलाओं ने कहा अगर हमें लिखित में सुप्रीम कोर्ट के द्वारा सुरक्षा का आश्वासन मिलता है तब तो सही है नहीं तो बात अभी ही खत्म. 

इस पर वकील साधना रामचंद्रन ने कहा क्या आप चाहते हैं हम खुश हो. तो साइन बाग में ही कहीं एक खूबसूरत जगह या खूबसूरत बाग खोज कर उन्हीं प्रोटेस्‍ट करें. क्या आपको हमारा या आइडिया पसंद है इस पर वहां की महिलाओं ने साफ मना कर दिया.

प्रदर्शनकारियों ने अपनी कुछ मांगे भी रखी

सुप्रीम कोर्ट हमारी सुरक्षा को लेकर एक आदेश जारी करें
साइन बाग और जामिया के लोगों पर किए गए मुकदमे वापस लिए जाएं
अगर आधी आधी सड़क खोली जाएगी सुरक्षा और एलुमिनियम शीट यहां दी जाए
हमारी सुरक्षा की जिम्मेदारी सुप्रीम कोर्ट ले ना की पुलिस
साइन बाग के महिलाओं के खिलाफ गलत बोलने वालों पर कार्रवाई की जाए
और जब CAA कानून पूरी तरह वापस लिया जाएगा तभी यह सड़क पूरी खाली होगा वरना नहीं

No comments:

Post a Comment