येस बैंक के फाउंडर राणा कपुर फिर से भागने के फिराक में थे। पर गार्ड ने बिगाड़ा खेल

येस बैंक के फाउंडर राणा कपुर सरकारी एजेंसियो का शिकंजा कसने के बाद वापस भागने के फिराक में थे। हालांकि इसके बारे में कहा जा रहा है कि इसी दौरान कपूर के वर्ली वाले बंगले के गार्ड ने ईडी के अधिकारियों को इसकी सूचना दे दीया था।
राणा कपुर को येस बैंक के सीईओं पद से हटाये जाने के बाद से हीं वो लंदन चले गये थे। लेकिन भारत सरकार और आरबीआई ने उन्‍हें बुलाने के लिए जाल बुना और इसमें राणा कपुर को पकड़ने के लिए बिछााये गये भारत सरकार और आरबीआई की जाल में फस गये।

येस बैंक के फाउंडर राणा कपुर फिर से भागने के फिराक में थे। पर गार्ड ने बिगाड़ा खेल



राणा कपुर को जब भारत आने के बाद लगा कि उनके चारो तरप से भारतीय जांच एजेंसियों का शिकंजा कसता जा रहा है। तब राणा कपुर एक बार फिर से भारत से भागने के फिराक में लग गये। पर इस बार राणा कपुर सफल नहीं हो पाये।
मिडिया की रिपोर्ट की माने तो पिछले 8 महीनों में करीब कम से कम ऐसे 3 मामले सामने आये है। जब निवेशकों और यसबैंक के बीच में डील फाइनल होने वाली थी। पर आखरी समय में यह टल गई। इस फाइनल डील नहीं होने पर सरकार को लगा था की यस बैंक के इस डील के फाइनल नहीं होने के पीछे राणा कपुर का ही हाथ होगा।
पर हकिकत यह है की जैसे हीं डील फाइनल होने वाली होती तब ठीक उसी समय राणा से जुड़े लोग निवेशको से मुलाकात करते है। और इस डील से दूर रहने को कहते है।
राणा कपुर को मिली रिपोर्ट के अनुसार उन्‍हें महसुस हो गया था। की सरकार और आरबीआई बैंक में उन्हें शामिल नहीं करने जा रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here