बिहार इलेक्शन 2020 में मुख्यमंत्री से ये सबाल पूछेगी जनतासे बिहार की जनता बिकास के मामले में मुख्यमंत्री से क्या ये सबाल पूछेगी की पंद्रह साल बाद भी आपने क्या किया है, बिहार में मुख्यमंत्री के द्वारा बिहार का कितना बिकास किया गया है।

बिहार इलेक्शन में मुख्यमंत्री से ये सबाल पूछेगी जनता
बिहार इलेक्शन में मुख्यमंत्री से ये सबाल पूछेगी जनता

बिहार इलेक्शन में मुख्यमंत्री से क्या ये सबाल पूछेगी जनता पंद्रह साल बाद भी आपने क्या किया।

बिहार के विकास में क्या क्या खामिया है और ऐसे कुछ प्रश्न है, जो बिहार की जनता के द्वारा आनेवाले इलेक्शन 2020 में बिहार की जनता द्वारा ये सबालें पूछी जा सकती है।

मुख्यमंत्री ने पंद्रह साल में कोई उद्योग नहीं लगाया

पन्द्रह साल में आपने कोई उद्योग नहीं लगाया बिहार में, और जो उद्योग बन्द है उसको भी चालू नहीं किये। पन्द्रह साल बाद भी गर्व से TV (media)पर आकर कहते हैं कि आप सब तो जानते ही हैं की बिहार पिछड़ा और गरीब राज्य है।

बिहार से छात्र का पलायन मुख्यमंत्री नहीं रोक सके

पन्द्रह साल बाद भी आप बिहार से एक भी छात्र का पलायन नहीं रोक सके, जहाँ तक कि छात्र का पलायन बढ़ ही रहा है रुकने का नाम नहीं ले रहा। पन्द्रह साल बाद भी बिहारी मजदूरों को एक जोड़ी कपड़ा लेकर बिहार से बाहर देश के सभी कोना में दर दर का ठोकड़ खाना पड़ता है।

बिहार के मुख्यमंत्री बिस्थापित परिवार को वापस नहीं बुला सके

पन्द्रह साल बाद भी बिहार से विस्थापित परिवार को आप वापस नहीं बुला सके, जो जहां झुग्गी में भी रहने के बाबजुद यह सोचता है कि बिहार से ठीक है। पन्द्रह साल बाद भी आपके अस्पताल का भवन ऊंचा हुआ हो लेकिन इलाज की सुविधा घटते जा रहा है।

बिहार के मुख्यमंत्री ने पढाई की सुविधा अभी तक अच्छी नहीं कर पाई।

पन्द्रह साल बाद भी स्कूल दुमंजिला तो हो गया, लेकिन पढ़ाई कि सुविधा इतना अच्छा है कि स्कूल के शिक्षक भी अपने बच्चे को private school में पढ़वाते है, पन्द्रह साल बाद भी राज्य का 20-25 स्टेट  बोर्डिंग अभी तक चालू नहीं करवा पाये।

बिहार से घूसखोरी नहीं समाप्त कर पाये नितीश कुमार मुख्यमंत्री

पन्द्रह साल बाद भी राज्य से घूसखोरी घटने का नाम नहीं ले रहा है। सभी टाल ठोक के कहता है हमें भी देना पड़ता है, पंचायत के वार्ड से लेकर पटना के कार्यालय तक भ्रष्टाचार पसड़ा हुआ है। पन्द्रह साल बाद भी बिहार में एक भी खादीभण्डार आपसे चालू नहीं हुआ। पुराने दिनों के जमाने में महिलाओं का इस संस्था से बड़ा सहारा था।

मुख्यमंत्री नितीश कुमार ने पंद्रह साल बाद भी गांधी सेतु ठीक नहीं करवापाये।

पन्द्रह साल में गान्धी सेतु आप ठीक नहीं करवा पाये। मेडिकल और इंजीनियरिंग कॉलेज का बात ही दूर है। पन्द्रह साल बाद भी आपका मिथिला के प्रति सौतेला रबैया नहीं बदला। थोड़ा तो ध्यान से विकास के लिए मिथिला पर दीजिए। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here