महिलाओं में एक आम शिकायत है बेस्ट में दर्द होना, उसे Mastalgia भी कहते हैं ब्रेस्ट में  दर्द विशेष रूप से मासिक धर्म के दौरान होता है। मस्टाल्जिया एक आम ब्रेस्ट समस्या है जो 40-80% महिलाओं में पाई जाती है। कर्नाटक के चार नर्सिंग कॉलेजों में एक शोध किया गया,जिसमे 47% महिलायें मस्टाल्जिया से ग्रस्त पायी गयी।

ब्रेस्ट में दर्द के कुछ लक्षण

ब्रेस्ट

ब्रेस्ट में दर्द के कुछ लक्षण होते हैं दोनों स्तनों में दर्द, भारीपन, पीड़ा, कोमलता और स्तनों में सूजन। इसमें दर्द हल्के से गंभीर हो सकता है, यह लगातार या केवल कभी कभी हो सकता है। स्तन दर्द को दो मुख्य चिकित्सक पद्धतियों में वर्गीकृत किया जा सकता है।

  • 1.चक्रीय – दर्द की तीव्रता मासिक धर्म चक्र के दौरान बदल जाती है।
  • 2.गैर चक्रीय – मासिक धर्म चक्र के दौरान दर्द अपरिवर्तित रहता है।

चक्रीय स्तन दर्द (ब्रेस्ट में दर्द ) मासिक धर्म चक्र के दौरान हार्मोनल परिवर्तनों के कारण होता है। दूसरी ओर, गैर-चक्रीय स्तन दर्द उन समस्याओं से जुड़ा हुआ है जो स्तनों की संरचना को प्रभावित करते हैं जैसे कि अल्सर, पूर्व सर्जरी या अन्य कारण हो सकता है।

ब्रेस्ट (महलाओं के स्तन) दर्द के अन्य कारण जैसे स्तनों के कोशिकाओं के भीतर फैटी एसिड का असंतुलित होना, कुछ दवाओं के उपयोग से, बड़े स्तन, स्तनपान कराने और खराब तरीके की ब्रा पहनने से ब्रेस्ट में दर्द हो सकता है। ब्रेस्ट(स्तन) में दर्द जो मासिक धर्म चक्र से पहले या बाद में होता है, उसे कुछ घरेलू उपचार से सही किया जा सकता है।

घरेलू उपाए से आपके स्तन में दर्द काअसहजता कम होगी। अस्पष्ट दर्द जो आपके स्तन के एक विशिष्ट क्षेत्र में कई दिनों से चल रहा है, उसके लिए आप अपने डॉक्टर को ज़रूर दिखाएँ। 

ब्रैस्ट के दर्द में बर्फ का इस्तेमाल करें- स्तन दर्द से राहत पाने के लिए आप आइस पैक का उपयोग कर सकते हैं। आइस पैक लगाने से आपके ब्रेस्ट का दर्द कम होगा साथ ही सूजन से हुई परेशानी भी दूर होगी।

ब्रेस्ट के दर्द में बर्फ का कैसे करें इस्तेमाल

एक प्लास्टिक बैग में कुछ बर्फ की क्यूब्स रखें और एक साफ़ कपडे के साथ उसे लपेट लें।

इस आइस पैक को अपने स्तन पर लगभग 10 मिनट तक लगाकर रखें। जब तक आप कुछ राहत (आराम) महसूस नहीं करते तब तक पूरे दिन में इस प्रक्रिया को दोहराते रहें। सूजन और कोमलता को कम करने के लिए आप गर्म कर सेक का भी इस्तेमाल कर सकते हैं या गर्म और ठंडे सेक को बदलकर भी लगा सकते हैं।

नोट – सीधे अपने स्तनों पर बर्फ न लगाए। बर्फ को सूजन या जहां दर्द है वहां हल्का हल्का लगाएं।

खुद से ब्रेस्ट पर मालिश करने से सूजन कम होती है, साथ ही रक्त परिसंचरण में भी सुधार होता है। इससे आपके स्तन के ऊतकों को स्वस्थ बनाए रखने में मदद मिलती है। जिसकी वजह से ज़्यादा से ज़्यादा पोषक तत्व आपके ब्रेस्ट तक पहुंच पाते हैं।

ब्रेस्ट दर्द में मसाज कैसे करें

जब आप नहाते है तो साबुन से अपने ब्रेस्ट पर धीरे धीरे कुछ मिनट के लिए मसाज करें। ब्रेस्ट के बीच और साइड में साबुन से मसाज करें। स्तनपान के दौरान साबुन को निप्पल्स पर न लगाएं।

वैकल्पिक रूप से, कपूर के तेल की कुछ बूँदें और गर्म जैतून के तेल की 2 बड़ी चम्मच को एक साथ मिलाएं। अब इस मिश्रण को पूरे दिन में एक या दो बार ब्रेस्ट पर ज़रूर लगाएं।

इसके अलावा बराबर मात्रा में खुबानी तेल (apricot oil) और गेहूँ के बीज का तेल मिलाएं और अपने ब्रेस्ट पर इस मिश्रण से मसाज करें।

दर्द के लिए सबसे अच्छे उपचारों में से एक प्रिम्रोस तेल है। इस तेल में गमोलेनिक एसिड (gamolenic acid) होता है, जो एक प्रकार का फैटी एसिड होता है।

जिससे शरीर में हार्मोनल परिवर्तन की प्रक्रिया अच्छे से होती है। यह असहजता और दर्द की परेशानी को दूर कर देता है, अपने स्तनों पर प्रिम्रोस तेल से कुछ मिनट तक धीरे धीर मसाज करें।

इसके अलावा आप इस तेल का इस्तेमाल 3 महीने के लिए प्रतिदिन 240 से 500 मिलीग्राम तक कर सकते हैं लेकिन उससे पहले इस बारे में डॉक्टर से सलाह ले लें।

चक्रीय मस्टाल्जिया और मासिक धर्म के अन्य लक्षणों में उपयोग किया जाता है। पिट्यूटरी ग्लैंड से प्रोलैक्टिन हॉर्मोन का स्रावण होता है।

मासिक धर्म के पूर्व लक्षणों के लिए उत्तरदायी है। जैसे स्तनों में असहजता और दर्द आदि। चेस्टबेरी प्रोलैक्टिन हॉर्मोन के प्रभाव को कम करने में मदद करता है।

ब्रेस्ट के दर्द में चेस्टबेरी का कैसे करें इस्तेमाल


ब्रेस्ट में दर्द में आप 20 मिलीग्राम ड्राई चेस्टबेरी को निचोड़ लें और उसका पूरे दिन में 1 से 3 बार सेवन ज़रूर करें, आप चेस्टबेरी को एक तरल पदार्थ में भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

एक गिलास पानी में 40 बूंदें चेस्टबेरी की मिलाएं और सुबह में एक बार इसे ज़रूर पियें, कम से कम 3 महीने के लिए इनमें से किसी भी उपचार का पालन ज़रूर करें। लेकिन सेवन करने से पहले अपने डॉक्टर से इस बारे में जानकरी ले लें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here