निर्भया केस SC ने किया दोषी पवन की क्यूरेटिव पिटिशन खारिज। अब नहीं बचेगा पवन

आज SC ने निर्भया केस के दोषी पवन को दिया है बहुत बड़ा झटका। सोमवार को दोषी पवन की क्‍यूरेटिव पिटीशन को दिल्‍ली के सुप्रीम कोर्ट ने आज इसे खारिज कर दिया है। कोर्ट खुलते हीं 5 जजों की पीठ टिम ने बंद कमरे में विचार करने के बाद निर्भया केस के दोषी पवन कि याचिका सभी पांचो जजों की टीम ने इसे खारिज कर दिया है। अब दोषी पवन के पास सिर्फ अपनी दया याचिका राष्‍ट्रपति के पास भेजने का विकल्‍प बचा है। जिसे पवन के वकील के द्वारा भेजा जा सकता है।

पांच जजों कि टीम में जस्टिस एन वी रमन्ना, जस्टिस रोहिंग्टन फली नरीमन, जस्टिस अरुण मिश्रा, जस्टिस आर भानुमति और जस्टिस अशोक भूषण ने आज सुबह 10:25 बजे निर्भया केस के दोषी पवन की याचिका की सुनवाई को शुरू किया था। 

निर्भया केस SC ने किया दोषी पवन की क्यूरेटिव पिटिशन खारिज। अब नहीं बचेगा पवन



किसी भी दोषी के क्यूरेटिव पिटिशन की सुनवाई जजों कि बैंच एक साथ बैठ कर बंद कमरे में करती है। निर्भया के केस मामले में बाकी अन्य दोषियों की क्यूरेटिव पिटिशन को पहले हीं खारिज कर दिया गया है।  
2012 Delhi gangrape case: One of the convict Pawan’s curative petition has been dismissed by the Supreme Court. The petition had sought commutation of his death penalty to life imprisonment. pic.twitter.com/2KhruqyxVb

— ANI (@ANI) March 2, 2020

अब दोषी पवन की आज कि क्यूरेटिव याचिका खारिज होने के बाद अब उसके पास एक और दया याचिका दाखिल करने का विकल्प बचा है। इस मामले में बचे चार दोषी में से पहले हीं तीन दोषीयों की क्यूरेटिव और मर्सी को खारिज किया जा चुका है।
निर्भया केस के दोषियों को कोर्ट के द्वारा फांसी पर चढ़ाने के लिए तीन बार डेथ वारंट को जारी कर दिया गया है। सबसे पहले दोषियों को  पटियाला हाउस कोर्ट के द्वारा दो बार डेथ वारंट को जारी करने का काम किया था।, लेकिन दोषियों के वकील के दलील और कानूनी अड़चनों के कारणों का हवाला देकर इन दोनों डेथ वारंट को कैंसिल कर दिया गया था।
लेकिन तीसरे डेथ वारंट के जारी होने से, निर्भया केस के इन चारों दोषियों को 3 मार्च 2020 की सुबह के समय 6 बजे हीं फांसी दे दिया जाना है। अगर पवन अपनी दया याचिका राष्‍ट्रपति को नहीं भेजता है तब ऐसा होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here