चिराग पासवान ने कहा अपने चुनावी घोषणा पत्र में नियोजित शिक्षकों का मुद्दा शामिल करेंगे।

सरकार के सहयोगी दल लोजपा अध्यक्ष और जमुई के सांसद चिराग पासवान ने नियोजित शिक्षक को अपनी चुनावी घोषणा पत्र में शामिल करने का फैसला लिया। शिक्षकों की दशा को गंभीरता से लेते हुए उन्होंने शनिवार को शेखपुरा में प्रेस कॉन्फ्रेंस मैं जाति धर्म पर राजनीति कटाक्ष करते हुए कहा इस तरह की राजनीति से विकास नहीं हो सकेगा।

चिराग पासवान ने कहा अपने चुनावी घोषणा पत्र में नियोजित शिक्षकों का मुद्दा शामिल करेंगे


विकास करने के लिए उनकी पार्टी एक विजन डॉक्युमेंट तैयार कर रहा है डॉक्यूमेंट तैयार होने के बाद युवा विद्यार्थियों, व्यापारियों तथा महिलाओं और किसानों से अलग-अलग राय लेगी। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार तथा प्रतिपक्ष नेता तेजस्वी यादव से मुलाकातों पर लोजपा प्रमुख ने कहा कोई राजनीतिक मायने नहीं निकालना चाहिए।
भारतीय लोकतंत्र की अलग तस्वीर है, चिराग पासवान ने तेजस्वी को सलाह दी अपनी बेरोजगारी यात्रा से बिहार में हंगामे का माहौल न बनाएं। बल्कि उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री से वार्ता कर, उन्हें सलाह दे राज्य से बेकारी कैसे खत्म होगी बेरोजगारी दूर करने के लिए उन्हें सलाह दिया जा सकता है।

चिराग पासवान ने कहा अपने चुनावी घोषणा पत्र में नियोजित शिक्षकों का मुद्दा शामिल करेंगे


बिहारी ही आखिरकार बिहार छोड़कर दूसरे राज्य क्यों कमाने जाते हैं। बाहर के लोग बिहार कमाने क्यों नहीं आते हैं, इस यात्रा से चिराग पासवान ने सरकार से जनता के बीच एक करी बनने का प्रयास उन्होंने बताया। 2020 के चुनाव मैं बिहार एनडीए नेता नीतीश कुमार ही है राज्य की सभी 243 चुनाव होने की तैयारी की जा रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here