गोड्डा में 4 वर्षीय बच्ची की मौत – गोड्डा से 5km की दूरी पर पैरडीह पंचायत के कुरमनघाट में नहर के पानी के रिसाव होने के कारण 4 वर्षीय बच्ची की मौत घटनास्थल पर हो गई. यह बहुत ही दुखद हादसा की जिम्मेवारी कोई भी लेने को तैयार नहीं है.

गोड्डा में 4 वर्षीय बच्ची की मौत
गोड्डा में 4 वर्षीय बच्ची की मौत

गोड्डा में 4 वर्षीय बच्चे की मौत नहर के रिसाव से

बता दें कि यह दुखद घटना गोड्डा में 4 वर्षीय बच्ची की मौत गुड्डा से कुछ दूरी पर स्थित करमन घाट के नहर के पानी का रिसाव के कारण ऐसी घटना घटी है. जिसमें एक छोटी बच्ची है जो कि 4 साल की बताई गई है, जिसकी मौत घटनास्थल पर ही हो गई.

गोड्डा में 4 वर्षीय बच्ची की मौत
गोड्डा में 4 वर्षीय बच्ची की मौत 

साथ में एक 20 वर्षीय युवती भी पूरी तरह से घायल बताया जा रहा है जिसका इलाज चल रहा है. गोड्डा में 4 वर्षीय बच्ची की मौत की घटना से काफी आक्रोश का माहौल बना हुआ है.

पुलिस प्रशासन ने बिना लिखित आवेदन मदद से किया इनकार

यह दुखद घटना घटने के बाद पुलिस प्रशासन को जब ग्रामीणों के द्वारा सूचना दिया गया, पुलिस प्रशासन ने ग्रामीणों को यह बोलकर शांत कर दिया कि आप थाना आइए और आवेदन लिख कर दीजिए.

ऐसा पुलिस प्रशासन द्वारा क्यों किया गया कि मदद पहुंचाने के बजाय मृतक के परिवार वालों को थाने आकर आवेदन देने को बोला गया है पुलिस प्रशासन की सरासर ढिलाई दिखती है.

ग्रामीणों द्वारा यह आरोप लगाया जा रहा है, यंहा नहर जिसके द्वारा बनाया गया है उसे इस बात की जानकारी दी गई है, लेकिन फिर भी वह चुप हैं. ग्रामीणों के साथ यहां पंचायत के मुखिया पंचायत समिति और वार्ड सदस्य भी एकत्रित थे वह भी इस घटना के बारे में बताया कि इस तरह की घटना नहीं होनी चाहिए थी जो घट चुकी है .

जिसके बारे में 1 अगस्त को यह सूचना दिया गया था ठेकेदार को जो नहर बना रहा था यहां पर पानी रिसाव हो रहा है इसकी बारे में जानकारी ठेकेदार को दे दी गई थी लेकिन फिर भी किसी प्रकार की कार्रवाई नहीं किया गया.

गोड्डा में 4 वर्षीय बच्ची की मौत (VIdeo Download करे)

हरदेव कंस्ट्रक्शन के द्वारा की गई लापरवाही का परिणाम 4 वर्षीय बच्ची को जान देकर चुकानी पड़ी

गोड्डा से 5 किलोमीटर की दूरी पर पैरेडीह पंचायत के कुरमन घाट में नहर के पानी का रिसाव होने के बजह से चारदीवारी गिर गई, जिससे 4 वर्षीय बच्ची दबकर उसकी घटनास्थल पर ही मौत हो गई.

विस्तार से जानिए क्या है पूरा मामला

चार दिवारी गिरने की मुख्य बजह जलजमाव बताया जा रहा है, ग्रामीणों द्वारा जलजमाव का मुख्य वजह नहर के पानी का रिसाव बताया है, ग्रामीणों द्वारा यह  बताया गया है कि घटना हरदेव कंस्ट्रक्शन के द्वारा नहर बनाने के कार्य में की गई लापरवाही का नतीजा है.

जो कि आज हम ग्रामीण को यह दिन देखना पड़ रहा है, वहीं ग्रामीणों का कहना है कि जब नहर में पानी आती है तो नहर के दोनों बगल घरों में और सड़कों पर पानी का रिसाव होना शुरू हो जाता है.

जिस वजह से जलजमाव हुई और यह घटना घटी कार्य के समय भी कई ग्रामीणों ने इसके ठेकेदार और कर्मियों को कई बार जल निकासी के बारे में कहा गया पर उन्होंने यह कहकर टाल दिया कि अभी काम खत्म नहीं हुआ है.

जल निकासी की व्यवस्था कर दी जाएगी परंतु ऐसा नहीं किया गया पुनः जब 1 अगस्त को  जलजमाव होने लगा तो कंस्ट्रक्शन कंपनी को फिर से इस बात की जानकारी दी गई परंतु कंपनी के द्वारा आश्वासन देकर टाल दिया गया कि हम इसका मरम्मत करा देंगे.

और जल निकासी का समाधान कर देंगे परंतु कंस्ट्रक्शन कंपनी द्वारा किसी प्रकार की पहल नहीं की गयी जिसके नतीजे के रूप में आज यह अपूरणीय देखा गया.

जिसकी कभी भरपाई नहीं हो सकती इस घटना की जानकारी मिलने पर प्रशासन भी घटनास्थल पर पहुंचे और यहां का नजारा देखा तथा ग्रामीणों से पूछताछ भी की, ग्रामीणों के साथ यहां पंचायत के मुखिया, पंचायत समिति, वार्ड सदस्य भी एकत्रित थे.

जिनके द्वारा कडी निंदा करते हुए इस घटना में अतिशीघ्र कार्रवाई करने की मांग की गई. वही घटनास्थल पर आए हुए प्रशासन ने ग्रामीणों से लिखित आवेदन मांगा है.

ताकि कंस्ट्रक्शन कंपनी पर आगे की कार्रवाई किया जा सके वहीं ग्रामीणों की मांग है कि इस नहर कार्य की उच्च स्तरीय जांच हो ताकि इस तरह की घटना भविष्य में दोबारा ना हो सके जिससे हर कंस्ट्रक्शन कंपनी को सबक मिले और हो रहे कंस्ट्रक्शन में लापरवाही पर लगाम लग सके.

हमारे रिपोर्टर द्वारा प्राप्त जानकारी के अनुसार ग्रामीणों ने यह बताया की पुलिस प्रशासन यह बोल कर गए कि आप सब नहर बनाने वाले ठेकेदार के  पास मत जाओ वह आप सबके ऊपर ही ठेकेदार उल्टा केस दर्ज कर देंगे यह सरासर प्रशासन की मिलीभगत तथा ठेकेदार के प्रति सहानुभूति दिखती है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here